Monday, June 02, 2014

दुनियां वाले कैसे समझें , अग्निशिखा सम्मोहन गीत -सतीश सक्सेना

कलियों ने अक्सर बेचारे
भौंरे  को बदनाम किया !
खूब खेल खेले थे फिर भी  
मौका पा अपमान किया !
किसने शोषण किया अकेले,  
किसने फुसलाये थे गीत !
किसको बोलें,कौन सुनेगा,कहाँ से हिम्मत लाएं गीत !

अक्सर भोली ही कहलाये
ये सजधज के रहने वाली !
मगर मनोहर सुंदरता में 
कमजोरी , रहती हैं सारी !
केवल भंवरा ही सुन पाये, 
वे  धीमे आवाहन  गीत !
दुनियां वाले कैसे समझें, कलियों के सम्मोहन गीत !


नारी से आकर्षित  होकर
पुरुषों ने जीवन पाया है !
कंगन चूड़ी को पहनाकर
मानव ने मधुबन पाया है !
मगर मानवी समझ न पायी, 
कर्कश,निठुर, खुरदुरे गीत !
अधिपति दीवारों का बनके , जीत के हारे पौरुष गीत !

स्त्रियश्चरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
देवो न जानाति कुतो मनुष्यः
शक्तिः एवं सामर्थ्य-निहितः 
व्यग्रस्वभावः , सदा मनुष्यः !
इसी शक्ति की कर्कशता में, 
दच्युत रहते पौरुष गीत !
रक्षण पोषण करते फिर भी, निन्दित होते मानव गीत !

निर्बल होने के कारण ही 
हीन भावना मन में आयी 
सुंदरता  आकर्षक  होकर  
ममता भूल, द्वेष ले आयी 
कड़वी भाषा औ गुस्से का 
गलत आकलन करते मीत ! 
धोखा  खाएं आकर्षण में , अपनी  जान गवाएं गीत !

दीपशिखा में चमक मनोहर
आवाहन  कर, पास बुलाये !
भूखा प्यासा , मूर्ख  पतंगा , 
कहाँ पे आके, प्यास  बुझाये  ! 
शीतल छाया भूले घर की,
कहाँ सुनाये जाकर गीत !  
जीवन कैसे आहुति देते , कैसे जलते  परिणय गीत !

18 comments:

  1. कली कली करता गुजारव भौंरा गाये प्रीत के गीत
    किसी एक से मन कब भरता हरजाई ये सबका मीत
    सौ सौ पुरुष रोज करते छल तब इक नारी पुरुष छले
    जो करते हैं आत्म समर्पण वह पाते जीवन संगीत

    ReplyDelete
  2. अरे ये क्या .....
    आपने कलियों को ही गुनहगार बना डाला

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति-
    बहुत बहुत शुभकामनायें आदरणीय-

    स्त्रियश्चरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
    देवो न जानाति कुतो मनुष्यः
    शक्तिः एवं सामर्थ्य-निहितः
    व्यग्रस्वभावः , सदा मनुष्यः !

    ReplyDelete
  4. भाव, लय..दोनों लाजवाब.

    ReplyDelete
  5. दीपशिखा में चमक मनोहर
    आवाहन कर, पास बुलाये !
    भूखा प्यासा , मूर्ख पतंगा ,
    कहाँ पे आके, प्यास बुझाये !
    शीतल छाया भूले घर की,कहाँ सुनाये जाकर गीत !
    जीवन कैसे आहुति देते , कैसे जलते परिणय गीत !
    बहुत प्यारी.. सुन्दर भाव .. लय बद्ध रचना ..विचारणीय काश समाज में लोग इस के भाव अपनाएं
    सतीश जी जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  6. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई मेरी

    नई पोस्ट
    पर भी पधारेँ।

    ReplyDelete
  7. सुंदर भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  8. सुंदर, भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  9. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    ReplyDelete
  10. स्त्रियश्चरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
    देवो न जानाति कुतो मनुष्यः
    शक्तिः एवं सामर्थ्य-निहितः
    व्यग्रस्वभावः , सदा मनुष्यः !


    -एक उम्दा सृजन!!

    ReplyDelete
  11. स्त्रियश्चरित्रं पुरुषस्य भाग्यम
    देवो न जानाति कुतो मनुष्यः
    शक्तिः एवं सामर्थ्य-निहितः
    व्यग्रस्वभावः , सदा मनुष्यः !

    उम्दा सृजन!! बधाई

    ReplyDelete
  12. @ vibha rani जी
    इस व्यथा में सच्चाई भी है ।

    ReplyDelete
  13. bahut sundar geet , hardik badhai

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ।मेरे पोस्ट पर आप आमंश्रित हैं।!

    ReplyDelete
  15. र्बल होने के कारण ही
    हीन भावना मन में आयी
    सुंदरता आकर्षक होकर
    ममता भूल, द्वेष ले आयी
    कड़वी भाषा औ गुस्से का गलत आकलन करते गीत !
    धोखा खायें सबसे ज्यादा, अपनी जान गवाएं गीत ! waah ..bahut khoob

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !


- सतीश सक्सेना

Related Posts Plugin for Blogger,